Facilities

Awards -
महाविद्यालय में निम्नलिखित प्रकार के पुरस्कार एवं दक्षता प्रमाण पत्र/प्रशस्ति पत्र प्रदान किये जाते हैः-
1. महाविद्यालय में दी0द0उ0 गोरखपुर विश्वविद्यालय द्वारा स्नातक स्तर पर ली जाने वाली परीक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले छात्र/छात्रा को गोरखपुर की एक स्वयंसेवी संस्था ‘‘नागेन्द्र सिंह दाढ़ी बाबा सेवा संस्थान द्वारा विभिन्न पुरस्कार प्रदान किया जाता है:-
(क) बी0ए0 प्रथम वर्ष में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले छात्र/छात्रा को ‘दाढ़ी बाबा विशिष्ट प्रतिभा पुरस्कार
(ख) बी0ए0 द्वितीय वर्ष में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले छात्र/छात्रा को स्व0 श्रीमती फुलझारो देवी स्मृति पुरस्कार
(ग) बी0ए0 तृतीय वर्ष में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले छात्र/छात्रा को स्व0 श्यामदेव सिंह स्मृति पुरस्कार
2. स्नातक कला संकाय की परीक्षा में प्रथम तीन स्थान प्राप्त करने वाले छात्र/छात्राओं को श्री कल्पनाथ राय विद्या प्रसारक समिति, गोरखपुर द्वारा स्वर्ण, रजत एवं कांस्य पदक एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जायेगा।
3. अन्तर विश्वविद्यालयी अथवा राष्ट्रीय स्तर की खेल प्रतियोगिताओं में पदक जीतने पर महाविद्यालय द्वारा सम्मान एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जायेगा।
4. निबन्ध एवं वाद-विवाद प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ/उत्कृष्ठ स्थान प्राप्त करने पर प्रमाण-पत्र दिया जायेगा।
5. विभिन्न प्रकार के खेलकूद में उच्च स्थान प्राप्त करने पर पुरस्कार प्रदान किया जायेगा।
6. किसी अति विशिष्ट उपलब्धि पर प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जायेगा।

Sports Council -
महाविद्यालय क्रीड़ा परिषद की ओर से विभिन्न खेलों (एथेलेटिक्स, फुटबॉल, क्रिकेट, बैडमिण्टन, टेनिस, टेबुल टेनिस, हैण्डबाल, कैरम बोर्ड, कुश्ती, कबड्डी आदि) की सुविधा प्रदान की जाती है। महाविद्यालय के प्रत्येक छात्र/छात्रा से किसी न किसी एक खेल में भाग लेने की अपेक्षा की जाती है। छात्र/छात्राओं को क्रीड़ा परिषद् कार्यालय में जाकर निर्धारित प्रपत्र लेकर आवेदन-पत्र भर देना चाहिए। उसमें अपने पूर्वकालीन वृत्त का उल्लेख करते हुए संकेत कर देना चाहिए कि वे किन खेलों को पसन्द करेंगे।

Extra Academic Curriculums -
महाविद्यालय में विद्यार्थियों के चतुर्दिक विकास हेतु खेलकूद की सुविधा उपलब्ध है। खेलकूद पर विशेष महत्व दिया जाता है तथा व्यवहार कुशल अच्छे आचरण वाले विद्यार्थियों को अर्थिक सहायता भी दी जाती है। खेल अधीक्षक की अनुमति से विद्यालय का कोई खिलाड़ी बाहरी टीम में खेलने का अधिकारी होगा किन्तु बिना अनुमति के बाहरी टीम में खेलने वाले छात्र पर अनुशासनात्मक कार्यवाही होगी। खेल-कूद के साथ ही साथ साहित्यिक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों के द्वारा विद्यार्थियों में साहित्यिक एवं सांस्कृतिक क्षेत्र में अभिरूचि पैदा की जाती है एवं उन्हें यथोचित रूप से प्रोत्साहित करने के लिये महाविद्यालय प्रयत्न करता है। छात्र/छात्राओं की रचनात्मक प्रतिभा के विकास हेतु महाविद्यालय द्वारा पत्रिका का प्रकाशन भी किया जाता है।